Categories
News

वीडियों -: BJP के लिए प्रचार करने पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कर दी ये बड़ी गलती, बोले हाथ……

खबरें

मध्य प्रदेश में 28 विधा’नसभा सीटों पर उ’पचुना’व होने वाले हैं। बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही चुनाव प्रचार में लगी हुई। इसी बीच भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नेता और राज्यसभा से सांसद ज्योतिरादित्य से अनजाने में एक ऐसी गलती हो गई, जिसका कांग्रेस पार्टी मजाक बनाने में लगी है। असल में चुना’वी जनस’भा के दौ’रान कांग्रेस से बीजेपी में शामिल हुए सिंधिया ने जुबान फि’सल गई और उन्होंने बी’जेपी की जगह कां’ग्रेस के लिए जनता से वो’ट मांग लिया। जिसका वी’डियो मध्य प्रदेश की कां’ग्रेस इका’ई ने अपने अ’धिकारि’क ट्’वि’टर हैं’डल पर शे’यर किया है। वी’डियो सो’शल मी’डिया पर वा’यरल हो गया है। शनिवार को डबरा में बीजे’पी प्रत्याशी और एम’पी की मं’त्री इमरती देवी के स’मर्थन में ज्यो’ति’रा’दित्य सिं’धि’या एक चुना’वी सभा में पहुंचे थे।

यहां भाषण देते हुए सिंधिया ने कहा, ‘3 तारीख को पंजे वाला बटन दबेगा’ पंजा वाला बटन से मतलब कांग्रेस है। ज्योतिरादित्य सिंधिया को वायर’ल वीडियो में कहते हुए सुना जा सक’ता है, ”मेरी डबरा की जनता, मेरी शा’नदार और जानदार डबरा की जनता…मुट्ठी बांधकर विश्वास दिलाओ कि 3 तारीख को हाथ के पंजे वाला बटन दबेगा।” हालांकि ये लाइन बोलते ही ज्योतिरादित्य सिंधिया को इस बात का एहसास हुआ कि उन्होंने गलत बोल दिया है। अपनी कही बातों को सही करते हुए सिंधिया ने दोबारा बोला, ”कमल के फूल वाला बटन दबाएंगे और हाथ के पंजे वाले बटन को बोरिया बिस्तर बांध के हम यहां से रवाना करेंगे।” ज्योतिरादित्य सिंधिया के इस वायरल वीडियो को कांग्रेस की मध्य प्रदेश की अधिकारिक पेज पर शेयर किया गया है। ट्विटर पर शेयर करते हुए कांग्रेस ने तं’ज करते हुए लिखा है, ”सिं’धिया जी,मध्य प्रदेश की जनता विश्वास दिलाती है कि तीन तारीख को हाथ के पंजे वाला बटन ही दबेगा।”

मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों पर 3 नवंबर को उपचुना’व होने हैं। 10 नवंबर को चुना’व के नती’जे आएंगे। ये चुना’व शि’वराज सिंह चौहान के सत्ता में आने के बाद पहली बार है, इसलिए स’त्ताधारी पार्टी बीजेपी के लिए ये चुना’व काफी अहम है। बीजेपी पर इससे पहले कमलनाथ सरकार को खरीद-फोरख्त करके गिराने के आ’रोप लगते आए हैं, ऐसे में ये चुना’व ये तय करेगा कि बी’जेपी को मध्य प्रदेश की जनता मौका देती है या नहीं। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने मार्च 2020 में कांग्रेस से इस्तीफा दिया था। जिसके बाद वो बीजेपी में शामिल हुए थे। सिंधिया के साथ उनके खेमे के समर्थक विधायकों ने भी कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया था, जिसके बाद कमलनाथ की सरकार गिर गई थी और उन्हें इस्तीफा देने पड़ा था। कई वि’धाय’कों के इस्ती’फा देने से वहां की सी’ट खा’ली हो गई है, जिसके लिए रा’ज्य में उ’पचुना’व हो रहे हैं।