Categories
Other

सिंगापुर की यूनिवर्सिटी का दावा, मई की इस तारीख तक भारत से ख़त्म हो जाएगा कोरोना वायरस!

भारत में कोरोनावायरस का क़हर अभी भी जारी है।देश में लगातार कोरोना के मरीज़ों की संख्या बढ़ती जा रही है।देश के कई बड़े वैज्ञानिक इसके इलाज के लिए वैक्सीन बनाने को लेकर काम कर रहे हैं। इस बीच सिंगापुर की एक यूनिवर्सिटी ने भारत से कोरोना के खात्मे को लेकर दावा किया है कि मई की इस तारीख तक कोरोना भारत में खत्म हो जाएगा।

सिंगापुर यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी एंड डिजाइन (SUTD) की एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत में कोरोना 21 मई तक खत्म (97% तक) हो जाएगा। SUTD रिपोर्ट में कहा गया है कि अन्य देशों के मुकाबले भारत में स्थिति बेहतर रही है, और ये बात WHO ने भी मानी है।

सिंगापुर यूनिवर्सिटी का दावे को लेकर कहना है कि सभी देशों में कोरोना की स्टेज और स्थिति को देखते हुए कोरोना महामारी के जीवन चक्र को समझते हुए एक अनुमान के तौर पर ये रिपोर्ट तैयार की गई है। यूनिवर्सिटी ने अपनी रिपोर्ट में भारत समेत कई अन्य देशों में कोरोना के खत्म होने की तारीख का जिक्र किया है। बता दें SUTD का दावा है कि दुनियाभर में 29 मई तक कोरोना 97 प्रतिशत तक खत्म हो जाएगा लेकिन इसके 100 फीसदी खत्म होने में 8 दिसंबर तक का समय लगेगा।

SUTD के शोधकर्ताओं ने फिलहाल 28 देशों में कोरोना वायरस के खत्म होने की लिस्ट जारी की है. इन देशों में भारत, ऑस्ट्रेलिया, सिंगापुर, पाकिस्तान, जापान, कनाडा समेत कुल 28 देश हैं। इस रिपोर्ट के अनुसार सिंगापुर में 4 जून को, सऊदी अरब में 21 मई, अमेरिका में 11 मई, इटली में 7 मई, कतर में 26 जुलाई, पाकिस्तान में 3 जून और नाइजीरिया में 19 जून को कोरोना वायरस के संक्रमण के खत्म होने की संभावना जताई है।

इस रिपोर्ट के अनुसार जापान में 9 मई, कनाडा में 16 मई, तुर्की 15 मई, संयुक्त अरब अमीरात में 15 मई, सूडान में 4 मई और मिस्र में 20 मई, रूस में 19 मई, ईरान में 10 मई, यूके में 13 मई, स्पेन में 1 मई, फ्रांस में 3 मई और जर्मनी में 30 अप्रैल तक कोरोना वायरस का संक्रमण खत्म हो सकता है।

स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक भारत में इस जानलेवा महामारी के चपेट में अबतक 27,892 लोग आ चुके हैं और 872 लोगों की मौत हो चुकी है। पिछले 24 घंटों में कोविड के 1,396 नए मामले और 48 मौतें हुई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.