Categories
Other

इस अभिनेत्री को पहले ही हो गया था अपनी मौ’त का आभास, ये थे उनके आखिरी शब्द…

बॉलीवुड की काफी शांत और संजीदा एक्ट्रेस जिन्होंने कभी ग्लैमर के लिए काम नहीं किया था. आज के ही दिन 13 दिसंबर, 1986 को सिर्फ 31 साल में इस दुनिया को अलविदा कह गयी थी. दरअसल हम बात कर रहे है बेहतरीन अदाकारा स्मिता पाटिल की जिन्होंने छोटी से उम्र में बड़ा नाम कमाया था , और फ़िल्मी जगत में अपनी एक ख़ास पहचान बनाई थी. आज हम आपको उनकी ज़िन्दक्गी से जुडी कुछ ख़ास बातों के बारे में बताने जा रहे हैं और मरने से पहले उनके आखिरी शब्द की थे ये भी हम आपको बताएंगे.

स्मिता और राजब्बर के प्यार की कहानी
दरअसल , स्मिता से मशहूर एक्टर राज बब्बर बहुत प्यार करते थे, दोनों को फिल्म ‘भीगी पलकें’ के सेट पर प्यार हो गया था. उन्होंने स्मिता के लिए अपने घरवालों से लड़ाई तक की और घर छोड़ दिया था. दोनों उस दौर में लिवइन में भी रहा करते थे . लेकिन उसी के कुछ वक़्त बाद उन्होंने ने एक दूसरे से शादी कर ली थी. हालांकि, ऐसा पता चला कि राज बब्बर पहले से शादीशुदा थे और उनके नादिरा से दो बच्चे आर्य बब्बर और जूही बब्बर हुए थे. वैसे कहा तो ये भी जाता है कि राज बब्बर ने स्मिता को भरोसा दिलाया था की उन्होंने नादिरा से तलाक ले लिया है, लेकिन ऐसा किया नहीं था. इस बात से स्मिता पाटिल बहुत बुरी तरह से टूट चुकी थी.

हीरोइन से पहले थी न्यूज़ रीडर
फिल्मों में काम करने से पहले स्मिता पाटिल न्यूज रीडर थीं. ऐसा कहा जाता है कि वह जींस के ऊपर साड़ी लपेटकर न्यूज पढ़ती थीं.

हुआ था वायरल इन्फेक्शन
स्मिता को वायरल इन्फेक्शन की वजह से ब्रेन इन्फेक्शन हो गया था. प्रतीक बब्बर के पैदा होने के बाद वो वापस घर आ गई थीं. ऐसा पता चला की वो हॉस्पिटल जाने के लिए तैयार नहीं होती थीं, वह कहती थीं- ‘कि मैं अपने बेटे को छोड़कर हॉस्पिटल नही जाऊंगी.’ जब ये इन्फेक्शन बहुत बढ़ गया तो उन्हें जसलोक हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था . लेकिन स्मिता के अंग एक के बाद एक फेल होते चले गए जिस वजह से उनकी जान चली गयी थी.

स्मिता की आखिरी इच्छा

प्रतीक बब्बर को जन्म देने के ठीक 14 दिन बाद चल बसीं थी. ऐसा कहते हैं कि स्मिता को अपनी मौ’ त का आभास पहले ही हो गया था. उन्होंने मौत से काफी पहले अपने मेकअपमैन दीपक सावंत से अपनी आखिरी इच्छा भी जाहिर की थी. स्मिता ने कहा था – कि मैं चाहती हूं की मेरे मरने के बाद मेरी बॉडी को दुल्हन की तरह सजाया जाए. स्मिता की आखिरी इच्छा को पूरा भी किया गया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published.