Categories
News

भारत की यह नदी सदियों से उगल रही सोना, कोई नहीं सम’झ पाया इसका रह’स्य!

डेली न्यूज़

झारखंड: भारत में एक ऐसी नदी है, जिसमें से सोना (Gold) निक’लता है. हमारी इस बात को सुनकर आप हैरान हो रहे होंगे? लेकिन यह बात पूरी तरह से सच है. सोने की इस नदी की रेत में से सालों से सोना निकाला जा रहा है. यहां के लोग नदी से सोना निकालकर अपनी गुजर-बसर करते हैं.

झारखंड के रत्न’गर्भा में ‘स्वर्ण रेखा’ नाम की नदी बहती है. इस नदी में से सोना निका’ला जाता है. यह नदी झार’खंड, पश्चिम बंगाल और ओ’डिशा के कुछ इलाकों में भी बहती है. कुछ जगहों पर इस नदी को सुबर्ण रेखा (Subarnarekha River) के नाम से भी जाना जाता है. यह नदी दक्षिण-पश्चिम में स्थित नगड़ी गांव में रानी चुआं नाम की जगह से निक’लकर बंगाल की खाड़ी में गिरती है. इस नदी की कुल लंबाई 474 किलोमीटर है.

स्व’र्ण रेखा और उसकी सहा’यक नदी करकरी में सोने के कण पाए जाते हैं. लोगों का मानना है कि सोने के कण करकरी नदी से बहकर ही स्वर्ण रेखा नदी में पहुंचते हैं. करकरी नदी 37 किलो’मीटर लंबी है. आज तक यह रह’स्य ही बना हुआ है कि इन दोनों नदियों में सोने के कण कहां से आते हैं.

झार’खंड में इस नदी के पास रहने वाले लोग रेत को छान’कर सोने के कणों को इकट्ठा करते हैं. यहां का एक व्यक्ति महीने में 70 से 80 सोने के कण इक’ट्ठा कर पाता है. सोने के इन कणों का आकार चावल के दाने जितना होता है. यहां के आदि’वासी लोग बारिश के मौसम के अलावा पूरे साल यह काम करते हैं.