Categories
News

दु:खद-: कु’त्ते की मौ’त से दुखी युवती ने की आ’त्मह’त्या, सु’साइ’ड नोट में लिखा-मुझे बाबू के……

खबरें

छ’त्तीसग’ढ़ की रा’जधा’नी रा’य’पु’र से कुछ दूर गो’र’खा गांव से एक चौं’का’ने वाला मा’मला सा’मने आया है। बताया जा रहा है कि 23 वर्षीय छा’त्रा को अपने कु’त्ते से ब’हुत प्या’र था और हा’ल में उ’सकी मौ’के के बाद से वह का’फी दु’खी थी। इसके चलते ही युवती ने आ’त्म’ह’त्या करने जैसे बड़ा क’द’म उ’ठाया।

प’ड़ोसि’यों के अनुसार, युव’ती अपने कु’त्ते से का’फी लगा’व था और वह उसके म’र’ने पर काफी दु’खी थी। आ’त्मह’त्या के बाद युव’ती का अं’तिम सं’स्कार गांव के बाहर किया गया जबकि कु’त्ते को पास के ही एक खेत में द’फना’या गया।

सब इं’स्पेक्ट’र दीपक भा’रद्वा’ज के अनुसार, 17 नवंबर की रात को करीब नौ बजे 5 वर्षीय कु’त्ते की मौ’त हो गई। वह काफी लम्बे समय से बी’मार था। इसके बाद से ही प’रिवार काफी दु’खी था। रात एक बजे लड़की अपनी बहन के साथ सो’ने चली गई, लेकिन सुबह जब घ’रवा’लों ने देखा तो उसने पहले मं’जि’ल पर आ’त्मह’त्या कर ली थी।

लड़की कुत्ते को प्या’र से बाबू कहकर बुलाती थी। ला’श के साथ मिले सु’सा’इ’ड नो’ट में यु’वती ने अपने माता-पिता को आ’खि’री इच्छा ब’ता’ते हुए लिखा, ‘मेरी अंतिम इ’च्छा है कि मुझे ज’ला”या न जाए और मेरे बा’बू के साथ मुझे द’फ’ना’या जाए। म’म्मी-पा’पा अपना ख्या’ल रखना।’

लड़की की मौ’त के बाद जहां घर वाले काफी दु’खी और प’रेशा’न हैं। वहीं गांव में काफी तना’व है। लड़की एम कॉम की पढ़ाई कर रही थी और खाली समय में गांव के ब’च्चों को भी प’ढ़ा’या करती थी।