Categories
Other

सीबीआई की SIT, ये 4 अफसर दिलाएंगे सु’शां’त सिंह राजपूत को ‘न्याय’

बुधवार को सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई सु’शां’त सिंह राजपूत की मौ’त के मा’म’ले की जांच करेगी। इसके लिए सीबीआई ने एक स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम यानी एसआईटी का गठन किया है। इस टीम को सीबीआई के जॉइंट डायरेक्‍टर मनोज शशिधर लीड कर रहे हैं। मनोज के अलावा इस टीम में गगनदीप गंभीर, एसपी नूपुर प्रसाद और एडिशनल एसपी अनिल यादव भी शामिल हैं। हम आपको बता रहे हैं इन अधिकारियों के बारे में खास बातें…

​मनोज शशिधर

मनोज शशिधर गुजरात काडर के 1994 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं। इसी साल जनवरी में पीएम मोदी की अगुवाई वाली कैबिनेट ने शशिधर के सीबीआई के जॉइंट डायरेक्टर के पद पर नियुक्ति की मंजूरी दी थी। शशिधर पीएम मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के काफी भरोसेमंद अधिकारियों में गिने जाते हैं। इससे पहले शशिधर गुजरात स्‍टेट इंटेलिजेंस ब्यूरो में अडिशनल डीजी के पद पर तैनात थे। इससे पहले शशिधर बडोदरा पु’लि’स कमिश्‍नर, अहमदाबाद क्राइम ब्रांच डीसीपी और अहमदाबाद जॉइंट कमिश्‍नर के पद पर भी तैनात रहे हैं।

​गगनदीप गंभीर

2004 बैच की गुजरात काडर की आईपीएस अफसर गगनदीप गंभीर मूल रूप से बिहार के मुजफ्फरनगर की रहने वाली हैं। गगनदीप की 10वीं तक की पढ़ाई मुजफ्फरपुर में और आगे की पढ़ाई पंजाब यूनिवर्सिटी से हुई थी। गगनदीप पंजाब यूनिवर्सिटी की टॉपर भी रही हैं। गगनदीप देढ़ साल पहले सीबीआई में आई हैं और अगस्ता वेस्टलैंड, बिहार के सृजन घो’टा’ले जैसे कई हाई प्रोफाइल केसों की इन्वेस्टिगेशन कर चुकी हैं। इससे पहले राजकोट समेत गुजरात के कई जिलों में वह एसएसपी भी रही हैं।

​नूपुर प्रसाद

नूपुर प्रसाद एजीएमयूटी काडर की 2007 बैच की आईपीएस अधिकारी हैं। नूपुर बिहार स्थित टिकारी के सलेमपुर गांव की रहने वाली हैं। वह दिल्ली के शाहदरा की डीसीपी भी रह चुकी हैं। बीते साल ही नूपुर की सीबीआई में बतौर एसपी प्रतिनियुक्ति की गई थी।

​अनिल यादव

अनिल यादव सीबीआई में अडिशनल एसपी हैं। कॉमनवेल्थ गेम्स घो’टा’ला, मध्य प्रदेश का व्यापम घो’टा’ला, एमबीबीएस छात्रा नम्रता डामोर की मौ’त का के’स, अगस्ता वेस्टलैंड, शोपियां रे’प के’स और विजय माल्या के’स की जांच कर चुके हैं। अनिल यादव मूल रूप से मध्यप्रदेश से हैं। सु’शां’त सिंह राजपूत के’स की जांच के लिए बनी एसआईटी में अनिल इन्वेस्टिगेशन ऑफिसर के तौर पर काम कर रहे हैं। अनिल को 2015 में गणतंत्र दिवस पर पु’लि’स मेडल से भी सम्मानित किया जा चुका है।