Categories
News

बुरी खबर-: अभी अभी मनोरंजन जगत में दौड़ी शो’क की लहर, नही रहें तारक मेहता…

खबरें

तारक मेहता के प्रशं’स’कों के लिए एक बु’री ख’बर है। हा’स्य के लेखक तार’क मे’हता का अहमदाबाद में नि’धन हो गया है। साल 2015 में मेह’ता को पद्म’श्री से न’वाजा गया था। मेह’ता ने गुजराती में एक कॉ’लम शुरु किया ‘दुनिया ने ओंधा चश्मा’। इसी से दुनि’याभ’र में उन्हें जाना जाता है।


आपको बता दें कि मेहता के कॉलम का प्र’का’शन गु’जरा’ती प’त्रिका चि’त्रलेखा में 1971 से लेकर लगातार 40 सालों तक हुआ। मेहता का गुजराती नाटको में भी दखल था। सालों तक वो नाट्य मंडल से जुड़े रहे। मेहता के नि’ध’न पर गुजराती साहित्य और नाट्य जगत की हस्तियों ने दु’ख व्यक्त किया है।

जानकारी के मुताबिक मेहता को कॉलमिस्ट और लेखक के तौर पर जाना जाता है। साल 2008 में उन्हीं के कॉलम से तैयार किया गया संकलित उपन्यास ‘ओंधा चश्मा’ के आधार पर टीवी शो ‘तारक मेहता का उल्टा चश्मा’ शुरू किया गया। शो में तारक मेहता का किरदार कवि और लेखक शैलेष लोढ़ा निभाते हैं। दुनियाभर में इस शो के चाहने वाले मौजूद हैं। इसकी गिनती फैमिली शो में की जाती है। जा’नकारी के मु’ताबि’क 87 साल की उम्र में नि’ध’न हो गया। वो लंबे समय से बी’मा’र थे।

ता’रक मे’हता का उल्टा चश्मा’ के प्रो’डक्शन कं’ट्रो’लर के हे’ड अ’रविंद मा’रकं’डे की डे’थ हो गई है। एक ली’डिंग एं’टरटे’नमें’ट पो’र्टल के मु’ताबि’क, गुरुवार को शो के से’ट पर ही मा’रकंडे को सी’ने में द’र्द हुआ और फिर हा’र्ट अटै’क आ गया। उन्हें तुरंत ही पास के अ’स्पता’ल ले जाया गया, जहां डॉ’क्टर्स ने उन्हें मृ’त घो’षित कर दिया।