Categories
News

लेडी टीचर से स्टू’डेंट के पिता ने क्लास में किया गं’दा काम, वीडियो हो रहा है वाय’रल

वायरल न्यूज़

बिलासपुर। डीएवी स्कू’ल में लेडी टी’चर से छात्र के पिता ने प्रिंसि’पल के सामने दुर्व्य’वहार किया। वह डर’कर कमरे से बाहर निक’लने लगी तो उसने भी’तर से दर’वाजा बंद कर रोकने का प्रया’स किया। थाने में शिका’यत के बाद पुलि’स ने अभी तक कोई कार्र’वाई नहीं की है। मामला सर’कंडा थाना’क्षेत्र का है। पी’ड़ित टीचर ने स्कू’ल की महि’ला सेल व प्रिंसि’पल से भी इसकी लि’खित में शिका’यत की है।

स्टूडेंट के पिता ने कमरे में किया ऐसा…– बिला’सपुर के बसंत वि’हार स्कूल में शता’क्षी सक्सेना कक्षा 7-द की क्लास टीच’र ने सोम’वार की शाम उसने सर’कंडा थाने पहुंच कर लि’खित में शिका’यत दी।
– इसमें बताया है कि सोम’वार की दोपहर को वह अपने क्ला’स रूम के बा’हर खड़ी थी तो कक्षा का अनुप’स्थित छा’त्र स्कूल परि’सर में नजर आया।
– उसने पास बुला’कर पूछ’ताछ की तो पता चला वह स्कूल के एनु’अल फंक्शन में भाग लिया है और उसकी तैयारी’ करने पहुंचा है।
– छात्र ने स्कू’ल नहीं आने का का’रण बी’मारी बताया था। टीचर ने डांट’कर उसे स्कू’ल से वा’पस घर भेज दिया।

कुछ देर बाद छात्र का पिता मिनी’श्वर जांगड़े स्कूल पहुं’चा। वह एसई’सीएल का सुर’क्षा गार्ड है और स्कूल आते ही उसने अभ’द्र व्यव’हार करना शुरू कर दिया।
– उसने धमकी दी और मा’रने भी दौ’ड़ा। महि’ला टीचर के अनु’सार वह इससे का’फी डर गई और बचने प्रिंसि’पल जी राजशे’खर राव के कक्ष की ओर भागी।
– प्रिंसि’पल स्कूल में नहीं थे तो वह चुप’चाप अपनी कक्षा में आक’र बैठ गई। दोप’हर सवा 2 बजे प्रिंसि’पल आए तो उन्होंने उन्हें अपने कमरे में बुला’या।
– वहां छात्र के पिता, छात्र, उसकी ब’हन व 3-4 अन्य लोग बैठे थे। कुछ गार्ड की व’र्दी में थे। छात्र के पिता ने देखते ही प्रिंसिपल के सामने भी अभद्रतापूर्वक व्यव’हार कर’ना शुरू कर दिया।
– टीचर के अनु’सार उसकी बात सुने बि’ना ही प्रिंसि’पल सभी के सामने उन्हें फट’कारने लगे। उसने विरोध किया।

वह कमरे से बाहर जाना चा’हती थी पर छात्र के पिता उठ’कर सामने आ गया और धक्का’मुक्की कर कमरे का दरवा’जा भी- वह हाथ पक’ड़कर रोक’ना चाहता था पर वह किसी तरह दर’वाजा खोल’ने में सफल हो गई और बाहर निकल गई।- महिला टीचर ने पहले सर’कंडा थाने में फोन कर घ’टना की सूचना दी। बाद में उसने खुद थाने जाकर लि’खित में शिका’यत दर्ज कराई।- शिका’यत में छात्र के पिता पर प्रिंसि’पल के सामने दुर्व्य’वहार करने का आरो’प लगाया।- कहा है कि सब कुछ प्रा’चार्य के सामने हुआ और वे मूक’दर्शक बने रहे। टीचर के अनुसार स्कूल के बा’हर छात्र के पिता के 15-20 साथी खड़े थे। इससे वह दह’शत में है।- उन्होंने पुलि’स से इस मा’मले में वैधा’निक कार्र’वाई की मांग की है। शिका’यत की प्रति प्रिंसि’पल के अला’वा स्कूल की महि’ला सेल को भी दी है।

प्रिंसि’पल के सामने सब कुछ होता रहा और वे उनका ही साथ देते रहे-टीचर– लेडी टीचर के अनुसार प्रिंसि’पल उन्हें बुला’ते और छात्र के पिता को साथ में रख’कर बात’चीत करते। एक साथ 7-8 लोगों के सामने अपने कक्ष में बुला’कर बिना उनकी सुने प्रिंसि’पल ने डांट’ना शुरू कर दिया। इस बीच छात्र के पिता ने दुर्व्य’वहार किया तो मना नहीं किया और सामने आकर धक्का’मुक्की कर दरवाजा भी बंद करने की को’शिश की तो उन्होंने कुछ नहीं कहा। इस तरह के बर्ता’व से स्कूल में महि’ला टी’चर की सुरक्षा पर सवा’ल खड़े हो गए हैं।

प्रिंसि’पल जी राज शेख’र राव ने कहा-मेडम की वह पहले भी शिका’यत कर चुका था– प्रिंसि’पल जी राज शेखर राव का कहना है कि जिस प्रोग्रा’म में छात्र भाग ले रहा है वह दूसरे शि’क्षकों की देखरेख में चल रहा है। क्लास टी’चर का इससे कोई लेना देना नहीं। स्कूल से छ़ु’ट्टी होने के बाद वैसे ही क्ला’स टीचर की जिम्मे’दारी ख’त्म हो जाती है। टीचर को छात्र को वा’पस नहीं भेजना था। छात्र के पिता एसई’सीएल में गार्ड हैं। उन्हें जान’कारी हुई तो छात्र के साथ अपनी बेटी, भांजा तथा तीन सिक्यु’रिटी गार्ड के साथ स्कूल पहुं’चा। वे रेलवे स्टे’शन में थे। छात्र के पिता ने उन्हें फोन किया था। हफ्ते भर पहले भी उसने सक्से’ना मेडम के खि’लाफ टा’र्चर करने की शिकायत की थी। कहा था कि बच्चा डर के का’रण स्कूल नहीं आना चा’हता। मैंने उसके पिता को अपना कंप’लेन देकर वापस भे’जना चाह रहा था पर वह अड़ गया। आधा घंटे बाद रेल’वे स्टेशन से स्कूल पहुंचे तो छात्र के पिता बाहर ख’ड़े थे। मैडम नहीं थी। मैंने उन्हें आफिस में बुलाया। मैंने छात्र के पिता से कहा कि पेरें’ट्स रहें और बा’की बाहर चले जाए। तीन सिक्यु’रिटी गार्ड को मैंने बाहर भेजा। छात्र के पिता, उनका भां’जा व छात्र बैठे थे। हमने आने का कारण पूछा और शिका’यत लि’खित में मांगी। मैडम आपके के ही बच्चे को परे’शान करती इसलिए मेडम को बुला’कर पूछते हैं क्या बात है। वे 10 मिनट बाद आई। हमने पूछा तो वह सिक्यू’रिटी गार्ड के सामने चि’ल्लाने लगी। कहने लगी। अनजान लोग साथ में रहेंगे तो बात नहीं करेंगे और उठ’कर चली गई। छात्र के पिता ने रोकने के लिए आगे बढ़’कर दर’वाजा बंद कर दिया अौर कहा कि आप को बै’ठना ही पड़ेगा। मैंने उठ’कर जांगड़े को बिठाया फिर मेड’म चली गई।