Categories
Other

आखिर रे’प करते वक्त अ’प’रा’धी के दिमाग में क्या चल रहा होता है?

पूरी दुनिया में न्यूज़ की अगर बात की जाय तो रे’प के न्यूज़ मिल जाते हैं. लेकिन क्या कभी आपने सोचा हैं की रे’प करते वक़्त अ’प’रा’धि’यों के दिमाग में ऐसा क्या चल रहा होता हैं, जिसके वजह से वो इन घ’ट’ना’ओं को अं’जा’म देते हैं. आखिर रे’प जैसे घि’नौ’ने अ’प’रा’ध को अं’जा’म देने के दौरान रे’पि’स्ट क्या सो’च रहा होता है अगर नहीं तो आज हम आपको बताने वाले हैं वह बातें जिसके वजह से रे’पि’स्ट रे’प की घ’ट’ना को अं’जा’म देते हैं.

ब्रिटेन में रहने वाली मधुमिता ने रे’पि’स्टों पर एक स्टडी की है. मधुमिता एंग्लिया रस्किन यूनिवर्सिटी के क्रि’मि’नो’लॉ’जी डिपार्टमेंट में अपनी डॉक्टरल थीसिस लिख रहीं हैं. वो दिल्ली के ति’हा’ड़ जे’ल जाकर ऐसे 100 अ’प’रा’धि’यों से बातचीत की, जो रे’प के आ’रो’प में स’जा का’ट रहे हैं. स्टडी में ये भी कहा गया कि ज्यादातर रे’पि’स्टों ने बाद में इस बात को माना कि वो खु’द पर का’बू नहीं रख पाए. उनका ये भी कहना होता है कि वो काफी कोशिशों के बाद भी अपने ऊपर काबू नहीं रख पाए और इस कारण ही वो ऐसे अ’प’रा’ध को अं’जा’म देते हैं.

ज्यादातर रे’पि’स्ट रे’प करते समय सिर्फ यही सोचते हैं कि औ’र’तें सिर्फ म’नो’रं’ज’न के लिए ही होतीं हैं. रे’पि’स्ट के दिमाग में ये भी बात चल रहा होता है कि एक बार इनके साथ ऐसी ह’र’क’त करने के बाद इन्हें कचरे की तरह फेंक देना चाहिए. औरतों को मनोरंजन समझने वाले रे’पि’स्ट रे’प करते समय अपने दिमाग में यही बात लाते हैं. एक स्टडी में ये बात सामने आई है कि रे’पि’स्ट हमेशा रे’प’ करते समय ब’द’ला ले’ने के बारे में सो’च रहा होता है. स्टडी में बताया गया कि एकतरफा प्यार में सफलता ना मिल पाने के कारण रे’पि’स्ट अक्सर ऐसे गं’दे काम को अं’जा’म देते हैं और वो इसे ब’द’ले की तरह मानते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published.