Categories
News

तारो के शहर में जाने का सपना अगर आप का भी है,और आप भी ब्रह्मांड की सैर करना चाहते है तो हो जाये तैयार,यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी दे रही मौका

यदि आप ब्रह्मांड की सैर के इच्छुक हैं और दबाव (प्रेशर) व शन्यू गुरुत्वाकर्षण में शांतिपूर्वक रह सकते हैं तो यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी (ईएसए) के आगामी स्पेस मिशन का हिस्सा बन सकते हैं. ईएसए ने 11 वर्षों बाद नए अंतरिक्षयात्रियों की भर्ती का अभियान शुरू किया है, जिसमें महिलाओं और दिव्यांगों को प्राथमिकता दी जा रही है. बशर्ते उम्मीदवार एजेंसी के मानकों पर खरे उतरें.

इस वर्ष ईएसए न केवल महिला अंतरिक्ष यात्रियों को भर्ती करेगी बल्कि अंतरिक्ष यात्रा का सपना देखने वाले दिव्यांगों को भी मौका देगी. यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के महानिदेशक जेन वार्नर ने कहा, ‘हमें चंद्रमा और मंगल पर जाना है. इसके लिए हमें भविष्य में बेहतरीन अंतरिक्षयात्रियों की जरूरत है. इस दिशा में हमें इतने व्यापक स्तर पर सोचने की जरूरत है जितना इससे पहले हमने कभी नहीं सोचा.’

अंतरिक्ष में जाने वाले लगभग 560 लोगों में से केवल 65 महिलाएं हैं और इनमें भी 51 अमेरिकी हैं. ईएसए ने अब तक केवल दो महिलाओं (क्लाउडी हैगनरे और सामंथा क्रिस्टोफोíत) को अंतरिक्ष में भेजा है. वार्नर ने कहा कि अब इस असंतुलन को दूर करने की कोशिश की जा रही है.ईएसए कहना है कि अब दिव्यांगों को भी अंतरिक्ष में ले जाने का समय आ चुका है. पैरास्ट्रोनेट फिजिबिलटी प्रोजेक्ट के तहत उन्हें इसका हिस्सा बनाया जाएगा. पहली बार किसी अंतरिक्ष एजेंसी ने दिव्यांग अंतरिक्ष यात्रियों के लिए आवेदन प्रक्रिया शुरू की है.अंतरिक्ष में जाने वाले लगभग 560 लोगों में से केवल 65 महिलाएं हैं और इनमें भी 51 अमेरिकी हैं. ईएसए ने अब तक केवल दो महिलाओं (क्लाउडी हैगनरे और सामंथा क्रिस्टोफोíत) को अंतरिक्ष में भेजा है. वार्नर ने कहा कि अब इस असंतुलन को दूर करने की कोशिश की जा रही है.

आवेदन प्रक्रिया एजेंसी के अधिकारियों का कहना है कि मिशन के लिए अंतरिक्ष यात्रियों को चुनने में 18 महीने का समय लगेगा. इसके लिए 31 मार्च तक लोग आवेदन कर सकते हैं. उम्मीदवारों को एक कठिन चयन प्रक्रिया से गुजरना होगा. ये प्रक्रिया अक्टूबर 2022 तक चलेगी. अंतरिक्ष यात्री बनने के लिए उम्मीदवारो के पास नेचुरल साइंस, इंजीनियरिंग, मैथेमेटिक्स (गणित) या कंप्यूटर साइंस में मास्टर डिग्री होनी चाहिए.