Categories
News

ख’त्म हुआ इंतजार! तीन टीकों के साथ शुरू होगा टीका’करण, इस शहर में होगा पहला टीका’करण

ब्रेकिंग न्यूज़

कोरोना से निजात की दिशा में भारत एक कदम और आगे बढ़ गया है। अमर उजाला को मिली एक्स’क्लू’सिव जान’कारी के अनु’सार, कोरोना वाय’रस के टीके को लेकर लगभ’ग सभी अड़चनें ख’त्म हो चुकी हैं। कम ताप’मान की वजह से अब नए कोल्ड’चैन की आवश्य’कता नहीं है। भारत अगले वर्ष तीन अलग-अलग टीकों के साथ कोवि’ड-19 का पहला और दुनिया का सबसे बड़ा वयस्क टीका’करण कार्य’क्रम शुरू करेगा।

सोमवार को केंद्र सरकार के तमाम विशे’षज्ञों के साथ टीका’करण को लेकर हुई बैठक में रण’नीति को लेकर सभी बिंदु’ओं पर चर्चा की गई। इस दौरान राष्ट्रीय टा’स्क फोर्स के शीर्ष अधिका’रियों के अलावा दवा कंपनी के सीई’ओ भी मौजूद थे। बैठक में लिए गए फै’सलों को देर शाम तक पीएम भेज दिया गया है। जान’कारी के अनुसार, मंगलवार को देश के मुख्य’मंत्रियों के साथ मिलकर प्रधान’मंत्री नरेंद्र मोदी इस रण’नीति पर चर्चा करेंगे।

इसमें सबसे अहम है कि रा’ज्यों को टीका की खरीद नहीं करनी है और केंद्र की ओर से समा’नता का अधिकार रखते हुए सभी रा’ज्यों को बराबर सं’ख्या में रोज उपल’ब्ध कराई जाएगी। इसके अला’वा उत्तर प्रदेश, बिहार और महाराष्ट्र में आव’श्यक लोगों की संख्या अधिक होने के चलते वहां की सर’कारों से बेहतर रण’नीति पर काम करने की स’लाह भी दी जाएगी।

 रणनीति में नहीं हुआ बदलाव
एक व’रिष्ठ अधि’कारी ने अमर उजाला को ब’ताया कि टीके को लेकर भारत शुरु’आत से जिस रण’नीति को लेकर चल रहा था, उसमें अब बद’लाव नहीं किया जाएगा। अब जब एस्ट्रेजेनेका के परिणाम संतोष’जनक सामने आ चुके हैं और भारत बायो’टेक का अंतिम परी’क्षण भी जा रही है। ऐसे में सर’कार इन दो कंप’नियों के टीके को ले’कर आगे बढ़ेगी।

इस बीच रूस या फिर जेने’वा एवं जाय’डस कैडिला का टीका आने पर उसे भी टीका’करण कार्य’क्रम में शामि’ल कर लिया जाएगा। वहीं राष्ट्री’य टास्क फोर्स के एक सद’स्य ने पुरानी रण’नीति को ही बेहतर मानते हुए कहा कि फाइ’जर और मॉड’र्ना के टीके काफी कम ताप’मान पर सुरक्षित रहते हैं। लेकिन एस्ट्रेजे’नेका और भारत बायो’टेक के लिए हमें अलग से कोल्ड’चैन पर काम नहीं करना होगा। इसके अलावा टीका लगाने के लिए सी’रिंज का उत्पा’दन भी जोरों पर चल रहा है।