Categories
धर्म

Vastu Tips For Diwali 2020: दीपा’वली पर मु’ख्य द्वार पर इस तरह से लगा’एं तोर’ण, जानें वा’स्तु के नियम

धर्म समाचार

सना’तन धर्म में भग’वान गणेश और श्री महा’लक्ष्मी की प्रस’न्नता का पर्व का’र्तिक अमा’वस्या यानि शुभ दीपा’वली पर्व इस बार 14 नवंबर शनि’वार को मनाया जाएगा। भग’वान विष्णु की प्रिया महाल’क्ष्मीजी के स्वा’गत में कई-कई दिनों पहले से ही हम तैया’रियों में जुट जाते हैं। घरों और व्यापा’रिक संस्था’नों की साफ-सफाई, रंग-रोगन के उप’रांत खूब सजाया जाता हैं। दीपा’वली पर देवी लक्ष्मी के स्वागत तरह-तरह के तोरण या बंधन’वार आप अपने मुख्य द्वार पर लगाते हैं। यदि वास्तु नि’यमों के अनुसार दिशा’ओं और रंगों को ध्यान में रखकर कार्य’स्थल या घर के मुख्य द्वार पर तोरण बांधा जाए तो नि’श्चित रूप से हमें शुभ परि’णाम प्राप्त होंगे और खु’शियां, सफ’लता और समृ’द्धि हमारे जीवन में दस्त’क देंगी।

दिवाली।

तोरण से आएंगी खुशियां
मुख्य द्वार पर बाँ’धने वाले तोरण को बंधन’वार भी कहा जाता है। माँ लक्ष्मी’जी के स्वा’गत में व इन्हें प्रस’न्न करने के लिए दर’वाजे पर इसे बांधना शुभ माना गया है। इन्हें बांधने से सका’रात्मक ऊर्जा घर में प्रवेश करती है वहीं नकारा’त्मक शक्ति’यां घर में नहीं आतीं। तोरण आप ताज़े फूल-पत्ति’यों, प्ला’स्टिक के फूलों या फिर धातु का भी बना सकते हैं। आज’कल बाजार में अलग-अलग रंगों और डिजा’इन के तोरण खूब मिलते हैं। तोरण का चयन घर की दिशा अनु’सार, रंगों और आकार को ध्यान में रख’कर करने से सौभा’ग्य में वृद्धि होती है।

दिवाली

पूर्व दिशा के लिए
यदि आपके घर का मु’ख्य द्वार पूर्व में है तो हरे रंग के फूलों और पत्ति’यों का तोरण लगाना सुख-समृ’द्धि को आमं’त्रित करता है। इस दिशा में ताजे आम और अशोक के पत्तों का तोरण लगाने से सकारा’त्मक ऊर्जा का संचार होगा और मां ल’क्ष्मी की कृपा बनी रहेगी।

दिवाली

 उत्तर दिशा
धन की दिशा उ’त्तर के मुख्य द्वार के लिए नीले या आस’मानी रंग के फूलों का तोरण लट’काना चाहिए। यदि आपके पास ताज़े फूल नहीं है तो आप प्ला’स्टिक के फूलों का इस्ते’माल कर सकते हैं। पर ध्यान  रहे फूल-पत्तियां कटे-फटे और गंदे न हों। ये नकारा’त्मकता को बढ़ाते हैं।

दीपावली

दक्षिण दिशा
यदि घर का प्रवेश द्वार द’क्षिण दिशा में है तो लाल, नारं’गी या इससे मिलते-जुलते रंगों के तो’रण से द्वार को सजाना चाहिए। ऐसा करने से धन का आग’मन होगा और मान-सम्मा’न में वृ’द्धि होगी।