Categories
Other

विशाखापट्टनम गैस लीक : मृतकों के परिजनों ने शव रखकर किया प्रदर्शन, सरकार से की ये बड़ी मांग

गुरूवार को अचानक विशाखापत्तनम में गै’स ली’क होने से 12 लोगो की मौ’त हो गयी जबकि 325 से अधिक लोगो की हालत अभी भी गं’भीर है. हालाँकि जैसे ही इस घट’ना का पता चला प्रशा’सन में ह’डकं’प मच गया और लोगो को बचाने के लिए स्थानीय प्र’शासन और ने’वी की टीम मौके पर पहुँच गयी और रे’स्क्यू ऑप’रेशन चलाया जा रहा है. उस दिन 24 घंटे में 2 बार वहां गैस लीक हुए, जिसके वजह से पूरे इलाका को खाली करवा दिया गया.

विशाखापट्टनम में हुए इस गैस लीक कांड में कई लोगों ने अपने परिजनों को खोया है. इस हादसे में एक बेटे ने अपनी मां को गंवा दिया है तो एक पत्नी अपने पति को खो चुकी है. एक मां भी अपने नन्हे से बच्चे के इस दुनिया से जाने से सदमे में है. इन लोगों का कहना है कि उन्हें पैसों की मदद नहीं चाहिए, उन्हें उनके अपने वापस चाहिए. स्थानीय लोगों ने विरोध प्रदर्शन करते वक्त LG पॉलिमर कंपनी तक मार्च किया. उनका कहना है सरकार मौत देने वाली इस फैक्टरी को बंद करें.

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई.एस. जगनमोहन रेड्डी ने गुरुवार दोपहर ऐलान किया कि घटना में मरने वालों के परिवार को एक-एक करोड़ रुपये का मुआवजा और वेंटिलेटर पर रहने वालों को 10 लाख रुपये की धनराशि मुआवजे के रूप में दी जाएगी. लेकिन अब परिजनों का कहना है कि उन्हें किसी भी तरह की मदद नहीं बल्कि उनके परिजन वापस चाहिए. इस गैस रिसाव का असर पशु पक्षियों से लेकर पर्यावरण पर भी इस के चलते बड़ा नुकसान हुआ है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.