Categories
News

पह’ले क’भी न’हीं दे’खी हो’गी ऐ’सी शा’दी, दू’ल्हा दुल्ह’न स’मुंद्र के अं’दर जा’कर ए’क दूस’रे को पह’नाई वर’माला, लि’ए सा’त फे’रे, औ’र सुहाग’रात भी व’ही.. दे’खें तस्वी’रें…

हिंदी खबर

कोयं’बटूर (तमि’लनाडु). शा’दी जिं’दगी का स’बसे मह’त्वपूर्ण प’ल हो’ता है। ह’र को’ई अ’पने वि’वाह को खा’स बना’ने के लि’ए कु’छ अ’लग क’रने की कोशि’श कर’ता है। ले’किन, अ’ब ह’म आ’पको ऐ’सी शा’दी के बा’रे में बता’ने जा र’हे हैं, जि’से शा’यद ही आ’पने क’भी दे’खा या स’ना हो’गा। तमि’लनाडु के को’यंबटूर में ए’क क’पल ने ऐ’सी अ’नोखी शा’दी की जि’सकी च’र्चा मीडि’या में हो र’ही है। य’हां दू’ल्हा-दुल्ह’न ने स’मुद्र के 60 फी’ट ग’हरे पा’नी में अं’दर जा’कर ए’क दूस’रे को वर’माला प’हनाई औ’र सा’त फे’रे लि’ए।

दरअ’सल, य’ह अनो’खी शा’दी को’यंबटूर में नी’लकंरई बी’च प’र हु’ई है। ज’हां ए’क आ’ईटी इंजी’नियर चि’न्नादुरई ने श्वे’ता ना’म की लड़’की के सा’थ पा’रंपरिक लि’बास में स’मुद्र के अं’दर जा’कर शा’दी की। खा’स बा’त य’ह थी कि दुल्ह’न ज’हां सा’ड़ी प’हने हु’ए थी व’हीं दू’ल्हा लुं’गी पह’ने हु’ए था। ज’ब क’पल की शा’दी का मु’हूर्त हु’आ  दो’नों ने स’मुद्र में छ’लांग ल’गा दी। 

ब’ता दें कि चि’न्नादुरई औ’र श्वे’ता ने 60 फी’ट गह’रे पा’नी में जा’कर करी’ब 45 मिन’ट ए’क दू’सरे के सा’थ बि’ताए। इ’स दौरा’न उन्हों’ने स’मुद्र को सा’क्षी मान’कर जिंद’गीभर ए’क-दू’जे का सा’थ दे’ने की क’स्में भी खा’ईं औ’र सा’त फे’रे लि’ए। चि’न्नादुरई ने प’हले श्वे’ता को पा’नी के अं’दर ही बु’के देक’र शा’दी के लि’ए प्र’पोज कि’या। जिक’के बा’द दो’नों ने ए’क दूस’रे के ग’ले ल’गे औ’र वर’माला पह’नाई। 

दुल्ह’न ए’स श्वे’ता मू’ल रू’प को’यम्बटूर की र’हने वा’ली है। व’हीं दू’ल्हा चिन्ना’दुरई ति’रुवन्नमलई का रह’ने वा’ला है। दुल्ह’न ने मी’डिया को बता’या कि ज’ब चिन्नादु’रई स’मुद्र के बी’च में शा’दी कर’ने का प्रस्ता’व र’खा तो मु’झे य’कीन न’हीं हु’आ। फि’र ह’म दो’नों को इ’स तर’ह की शा’दी का आ’इडिया ह’मारे ट्रे’नर अरविं’द अ’न्ना को ब’ताया तो व’ह भी रा’जी हो ग’ए।