Categories
Other

भारत के इस शहर में शुरू हो रही अंडर वाटर मेट्रो, सरकार के तरफ से मिला वैलेंटाइन डे का तोहफ़ा!

भारत में पहली बार शुरू किया जा रहा हैं अंडर वाटर मेट्रो आम लोगों के लिए. ये पहली बार होने जा रहा हैं या यूँ कहें कि सरकार के तरफ से लोगों को वैलेंटाइन डे का तोहफ़ा मिलने जा रहा हैं. आपको बता दें जब मेट्रो बनना शुरू हुआ था तो अनुमान लगाया जा रहा था कि 2020 के लास्ट तक ये आम लोगों के लिए खुल जायेगा. लेकिन फरवरी के अंत में ही शुरू कर दिया गया हैं. आइये आपको बताते हैं की ये भारत के किस शहर में शुरू किया गया हैं.

देश में सबसे पहले मेट्रो सेवा शुरू कर इतिहास रचने वाला कोलकाता आज फिर एक नया इतिहास रचने को तैयार है. कोलकाता में पहली मेट्रो सेवा 1984 में ही शुरू हो गई थी, इसका सिलसिला 21वीं सदी में भी जारी है. रेल मंत्री पीयूष गोयल बुधवार को कोलकाता ईस्ट-वेस्ट मेट्रो सेवा को हरी झंडी दिखाएंगे. इसके बाद शुक्रवार 14 फरवरी को इसे आम जनता के लिए खोल दिया जाएगा. इस मेट्रो सेवा सी सबसे बड़ी खासियत है कि यह अंडर वाटर यानि पानी के नीचे बनी सुरंग में चलेगी. साथ ही यह देश की सबसे सस्ती मेट्रो सेवा होगी. यह लाइन 15 किलोमीटर की होगी. पहले लाइन में छह किलोमीटर लंबी लाइन की शुरुआत होने जा रही है.

कोलकाता मेट्रो रेल भारत सरकार के रेल मंत्रालय के तहत चिन्हित 17 क्षेत्रों में से एक है। यह केंद्र सरकार का उपक्रम है. केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल 13 फरवरी को इस मेट्रो सेवा का उद्घाटन करेंगे और 14 फरवरी से इसे आम जनता के लिए खोल दिया जाएगा. यात्रियों को अंडर वाटर मेट्रो का रोमांचक अनुभव मिलेगा. पहले फेज में यह साल्ट लेक सेक्टर पांच से साल्ट लेक स्टेडियम तक चलेगी. 

इस मेट्रो से कोलकाता को बहुत फायदा होगा. अब तक सड़क मार्ग से उक्त दूरी को तय करने में करीब डेढ़ घंटा लगता था. लेकिन मेट्रो के शुरू होने से यह सफर मात्र 13 मिनट में पूरा हो जाएगा. उन्होंने बताया कि छह कोच वाली यह नई अत्याधुनिक मेट्रो है. इस मेट्रो में एक स्टेशन से दूसरे स्टेशन तक जान का किराया मात्र पांच रुपये होगा. रेट चार्च के अनुसार दो किलोमीटर तक के लिए पांच रुपये, पांच किलोमीटर तक 10 रुपये, 10 किलोमीटर तक 20 रुपये और फिर अंतिम स्टेशन तक के लिए यात्रियों को 30 रुपये  चुकाने होंगे.

Leave a Reply

Your email address will not be published.