Categories
News

श’वया’त्रा दिखते ही चुपके से करें ये मामूली काम, चमक उठेगी किस्मत…..

खबरें

हर किसी के जीवन का आ’खि’री पड़ा’व मौ’त ही हैं. फिर चा’हे वो इं’सान हो या जा’नवर. शायद आ’पमें से बहु’त क’म लो’गों को ये बात प’ता न हो की रा’स्ते से निकल रही श’वया’त्रा को दे’खक’र हमें कुछ ऐसे का’म करने चाहिए, जिनको अगर आ’प करते हैं, तो म’र’ने वा’ले इंसान की आ’त्मा आपको आ’शीर्वा’द देती हैं और आप’के रु’के हुए काम भी तुरं’त ब’नने लग जा’ते हैं, तो चलि’ए आप भी जा’न लीजिये ऐसे कौन से का’म है, जो हमें श’व’या’त्रा को दे’खक’र करने चाहिए.

जिस भी स’मय आ’पको रा’स्ते में जाते हुए कोई भी श’वया’त्रा दिखे, तो सबसे पह’ले दो’नों हा’थ जो’ड़’कर उस’को प्र’णा’म करे और शि’व-शि’व नाम का उ’च्चा’रण करे. शा’स्त्रों में ऐसा क’हा गया है कि जिस भी इं’सा’न की मौ’त हुई हैं, वो अपने साथ उस इं’सान के भी सारे दु’ख, द’र्द और क’ष्ट भी ले जाता है, जो उसको उस सम’य प्रणाम कर रहा है.

म’रे हुए इंसा’न को ‘शि’व’ जिसका म’त’लब उसको मु’क्ति मिले. ये कुछ ऐसे छो’टे-छो’टे नियम है, जिनको करके हमें लाभ मिल स’कता है और मरने वाले इं’सा’न की आ’त्मा को शां’ति भी मिलती हैं.

मनु’स्मृ’ति में ऐसा मा’ना जाता है कि जब भी किसी व्यक्ति की श’व या’त्रा नि’क’ले तो रास्ते में गॉ’व जरुर पड़’ना चा’हिए. पु’राणों में कहा गया है जो भी इंसा’न ब्रा’ह्मण की अ’र्थी को कं’धा देता,उसे जीव’न के हर क’दम पर 1 यज्ञ के ब’राब’र पु’ण्य मिलता है

हि’न्दू शा’स्त्रों में ऐसा मा’ना जाता है अ’गर को’ई भी ब्रा’ह्मण व्यक्ति दूसरे ब्रा’ह्मण व्यक्ति की अ’र्थी को अपने स्वा’र्थ और पै’सों के लिए कं’धा देता है, तो वो ब्रा’ह्मण व्यक्ति 10 दिन तक अ’शु’द्ध रहता है. शव यात्रा को देखते ही थो’ड़ी देर के लिए उस जगह पर ही ख’ड़े होक’र भ’गवा’न से म’रने वा’ले इंसान की आ’त्मा की शांति के लिए प्रार्थना करनी चाहिए.

धार्मिक दृष्टिकोण के अलावा ज्योतिष शास्त्र में भी श’वयात्रा को दे’खना शु’भ मा’ना जाता है. मा’न्यता ये है कि अगर कोई इं’सान श’व या’त्रा को दे’ख भर लेता है, तो उसके स’भी का’म पू’रे हो जाते हैं. उसके जी’वन में खु’शियां आती हैं और सभी दु’ख दूर हो जाते हैं.